Story Details

सोहने-मिटथड़े-प्यारे सतगुरु जी , प्यार आप हम से बेशुमार करते हो, जो भी माँगा आप से हर उस अर्ज को स्वीकार करते हो, हमें आपके अनमोल प्यार के काबिल सदा बनाये रखना प्यारे पापा जी, बस यही अर्ज हम आपसे दिन रात करते हैं |